Inspirational Poems - Contribute Rhyming, Non Rhyming Poems

 

 

About contentwriter | Contact Us

Useful Articles

More Poems | Short Stories

Submit an Article/Poem

Hire Our Writing Services

Know More About Our Services

Contact Us contact@contentwriter.in

Advertise With Us

Search Content Writer India 

 

 

बाल मजदूर

होटलो मे काम करते

सडको पर गाडी धोते

भीख माँगते, बोझ ढोते

कचडा बीनते, कपडा बूनते

गंदे मटमैले चीथडो मे

कभी घृणा से, कभी करुणा से,

देखा होगा तुमने मुझे अनजाने मे

 

कुछ ने देनी चाही मुझे शिक्षा,

कुछ ने आगे बढकर की मेरी रक्षा.

बना दिए कानून मेरी हित मे

लगा दी पाबंदी मेरे काम मे

 

निस्वार्थ सहायता से अपनी

बचाना चाहा मेरा बचपन.

बाल शोषण के विरोध मे

चलाई सशक्त लहर क्रांति की.

 

देख प्रेम, छलकी आँखें

आशा पा, अरमाँ जागे

पर , प्रसन्नता के नभ पर

छाए दुविधा के बादल

 

एक जन के नाममात्र वेतन से

मिलता नही भोजन एक वक्त का

पिता के इन्ही दायित्त्वो को बाँटने का

सपना अधूरा रह जाएगा.

 

 है नही देह ढाँकने को वस्त्र

है नही सिर छिपाने को छत

गुजर रहा जीवन अभावो मे

सड रहा तन तनावो मे

 

पिता की कैसे मदद करुँ?

माँ की पीडा कैसे दूर कँरु?

बहन को कैसे विदा कँरु?

भाई को कैसे सक्षम कँरु?

 

है यही जीवन का लक्ष्य

बनूँ परिवार का आधार

करने अपने सपनो को साकार

बनना ही होगा मुझे बाल मजदूर 

Contributed By :  Smita Kamble from Bangalore, presently working as a Hindi lecturer. smitap.kamble@gmail.com

 

 

 

 Common Job Profiles - Writing Industry

Web Content Writer

Website Copywriter

Creative Writer

Article Writers

Travel Writers

Research Writer

Copy Editor

Technical Writer

Ghost Writer

Translator

Proof Reader

Content Writer Blog

 

Web Content Writing Services, India | Contribute Your English & Hindi Poems

Sitemap

Home


Copyright contentwriter.in , contact@contentwriter.in